Saturday, August 30, 2014

गीत जो गुनगुनाने का हुआ मन


1)
जिन्दगी ऐ जिन्दगी तेरे हैं दो रूप.....




------------------------------------------------------------------------------------------------------------

२)
करना फकीरी फ़िर क्या दिलगिरी सदा मगन मैं रहना जी ....

Thursday, August 28, 2014

जय जय हो गणेश

गणपती जी
आवो मेरे अंगना
देओ आशीष ...

करूँ मैं पूजा
सिमर लूं गणेशा
हो ध्यान मग्न ....

भोग लगाऊं
आरती उतार लूं
नवा लूँ शीश ....

गजानन तू
शुभारंभ करे तो
कार्य सफल ....

आवो गणेश
सजाया मैंने घर
तुम्हारे लिए ....

हे गणराय
हे पार्वती नंदन
चरणस्पर्श....

आनंदकारी
चतुरानन तुम
आदि अनंत....

माता पार्वती
अग्रज कार्तिकेय
पिता शंकर ....

गोल उदर
गजमुख सुन्दर
अत्याकर्षक...

बुद्धि प्रदाता
प्रथम पूजनीय
करूँ नमन .......
-अर्चना

Monday, August 11, 2014

मांग के तो देखिए- दिल हाजिर करने वाले लोग अब भी हैं .....

इस बार रक्षाबंधन के दिन सोमालीपुरम घूमने गए। (इंदौर के पास एक पार्क)
बच्चों ,माँ और भाई-भाभीयों के साथ और बच्चे बने रहे दिन भर ....
कुछ मेंबर जल्दी पहुँच गए थे
हम पीछे रह गए थे, हमें उन्होंने सूचना दी कि आज अखबार में कूपन छपे हैं जिसे साथ लाने पर 10% छूट हर एक्टिविटी पर मिल रही है पेपर साथ ले आना ।चूँकि हम घर से निकल चुके थे और उस वक्त कोई पेपरवाला भी नज़र नहीं आने वाला था(११ बज चुके थे)..
एक जगह एक दूकान में एक व्यक्ति पेपर पढ़ते हुए दिखाई दिया
बस! फिर क्या था ...निलेश फटाफट गए माँगने ।
- भैया पेपर दिखाएंगे
-हाँ क्यों नहीं, क्या आया है?
-एक विज्ञापन देखते हुए ... ये पेपर रख लूं?
-अरे भैया !अभी तो पढ़ा भी नहीं है !
-प्लीज भैया फेमेली के साथ सोमानीपुरम ........छूट है पता चला ...दे दीजिये!
- अच्छा!! ....ले जाईये .... :-)
.. ...
ऐसे तीन लोगों से पेपर लिए ,और उन्होंने खुशी-खुशी दिए भी ....
खुशी  देनेवाला काम .... छोटा या बड़ा नहीं होता ,और मांग के तो देखिए ...दिल हाजिर करने वाले लोग अब भी हैं ...
.....
परिवार के जो लोग यहाँ नहीं थे उन्हें "मिस" भी बहुत किया ।...

Friday, August 1, 2014

वक्त का पहिया और हम

सुबह बस स्टॉप पर खड़ी थी -स्कूल बस का इंतज़ार करते ...

सब कुछ रोज की तरह ही था ,कंपनी की स्टॉफ बस के लिए दौड़ लगाते लोग स्कूल बसों के लिए बच्चे ,सुबह घूमने और कुत्ते घुमाने वाले लोग भी वही..

और तभी उस पर नज़र पडी थी मेरी ,मेरे सामने से रोज गुजरती है वो - एक महिला करीब 28-30 वर्ष उम्र होगी ,अपनी गोदी में एक बच्चे को उठाए ,जिसे कमर पर बैठाये हुए रहती है , बेटा है शायद उसका ,दूसरे हाथ में पुराना सा छाता दबाए तेजी-तेजी से चलते हुए काम पर जाती है ,ये तो पता नहीं क्या काम करती है ,..और कहाँ जाती है .
पर उसकी छोटी बेटी उसके पीछे ,उसका आंचल पकड़ ......उससे भी तेज चलती है ,लगभग दौड़ती है.....
सोचा एक फोटो लूं .....मोबाईल निकाला ....हिम्मत नहीं हुई ........
कुछ याद आ गया था -
ऐसी ही दौड़ कभी मैं भी लगाया करती थी ......

.किरदार बदल जाते हैं हालात नहीं .....

Sunday, July 27, 2014

आभासी,बेनाम और अज्ञात लोग ...

1-

इस आभासी मुल्क में
अनजाने लोग
बन जाते हैं अपने
जाने कैसे?
न कोई जात न पात
न धर्म न भात
न एक खून
बस एक जूनून!
मिलना -मिलाना
भाईचारा निभाना
सुख में हँसना
तो दुःख में रोना
कर लेते हैं साथ
जाने कैसे ?
अनजाने लोग
इस आभासी मुल्क में ....

2-

एक अनाम रिश्ता
बेनाम लोगों से
बदनाम बस्ती में
बन जाया करता है
जिसके भरोसे भी
बीत जाया करती है
जिन्दगी .....

3-

अज्ञात और लावारिस
किसी के तो सगे होते होंगे
शायद विपदा के या
किसी आपदा के ही
तभी तो ले आती है
उनके लिए
मौत को साथ ....
पर कोई अपना
इतना क्रूर होता है भला
कि छोड़ कर निर्जन में
चला जाए अकेला ...
-अर्चना