Thursday, July 24, 2014

यादों का अटका कोना ...

24 जुलाई
तुम फिर आई
एक बुरी याद लेकर
जिसका कोना कहीं
फंसा हुआ है दिमाग में
और इसी वजह से
फेंकने में सफल नहीं हो पाई
अब तक उसे बाहर
वरना तो
हादसों की तारीखें
कहाँ याद रहती है....

दूसरे दिन इतवार
मिली थी खबर
गिरी थी जिप्सी खाई में
छुट्टी का था दिन
लगा रखी थी मेंहदी
बालों में और
रच गए थे हाथ खुद ब खुद
भागे-भागे उतारी मेंहदी
मगर हाथों पे रंग चढ़ा रहा
अपने प्यार की
रंगत लिए
आवाज आई-
क्या करेंगी आप ?
जाना पड़ेगा आपको,
बच्चों को लेंगी साथ
या छोड़ जाएंगी?
दुविधा में थी -
घर-परिवार से कोसों दूर
बच्चे हादसे को सह न पाएंगे
सजीव देख...
डर गयी थी
सोच -भीतर तब
तय कर लिया छोड़ना
कहाँ?
आस लिए नज़रें
आपही घूमीं चारों ओर
लोग इकट्ठे हो चुके थे
सच्चे दोस्त का चेहरा
पहचान, रूक गयी आप ही
चल पडी अनजानी राह पे
छोड़ 7साला वत्सल
और 5साला पल्लवी को
जिसका पांचवां जन्मदिन
20 को ही मनाया था
पहली बार उनके बिना ....

रोई नहीं मैं
बस आँखे भरती रही
जबरन !
पहली हवाई यात्रा
उफ़!
अजीब सिहरन !!!
कलकत्ता -अब तो
नाम भी बदल गया
इस महानगर का
रूकना था
अतिवृष्टि और
कुछ असमंजस के कारण
मिला दास साहब का घर
बहुत पुरानी हवेली -सा
रात बितानी थी
गौहाटी के रास्ते
साधन न मिलने पर
उनकी माँ -चाची
हाथ फेरती रही सिरहाने बैठ
मेंहंदी लगे बालों में
शुभ होता है मीठा खाना
कह -बढाया रसगुल्ला
अनजान शहर
अनजान लोग
और इतना दुलार
मन रोया फूट -फूट कर.....

शशी दादा पहुँच चुके थे
पहली बार बात हुई मेरी
चचेरे जेठ जी से..
और
सुबह फिर नई यात्रा
हवाई अड्डे पर
हुई मुलाकात
मेरी सखी से
हाँ ,
हाँ ,उसे भी लाया गया था
इसी तरह
मगर अब उसे आगे नहीं जाना था
किस्मत रूठ गयी थी उससे
शरीर लौट रहा था
उसके पिया का .....
एक -दूसरे से नज़रे मिली थी
डर से सामना करना
तय हो गया था उसी वक्त......

फिर आसमानी सफ़र
खिड़की से झांक
लगा था अंदाजा
खूबसूरत ,प्यारी
दयालु धरती माँ का
बंद आखों में टूटते
सपने थे ,और सिर्फ
मेरे अपने थे
बच्चों की निगाहें
और उनकी आशाएं
"पापा को लेने गई मम्मी".......

"गौहाटी" देवी का घर
गेस्ट हाऊस और स्टाफ
अब सिर्फ रूह टकराती है सबकी
एक टैक्सी- वर्मा और चालना साहब
खौफ़ भरा सफ़र
7 किलोमीटर....
इतना लंबा !!!कि
ख़तम हुआ नहीं लगता था
खैर!
न्युरोलोजिकल हॉस्पिटल
एंड रिसर्च सेंटर
मुस्कुराती मिली थी यहीं
"उत्पला बोरड़ोलाई"
जिसकी मुस्कान बस गई है
मेरे चेहरे पर अब ....
जबकि
चढ़ते हुए सीढियाँ
चल रहा था
मंथन ,क्रंदन ,
अंतर -रूदन .....

अंतिम सीढ़ी-
हाथ बाँधे ,पीठ टिकाए
डॉक्टर चक्रवर्ती
लगातार तीन दिनों से
जागते हुए ...
-हेल्लो-ये "मिसेस चावजी"
देख चौंके थे मुझे
जाने क्यों ?
अब लगता है -
शायद मुझे संयमित देख...
आईये-
पहले देख लीजिये
फिर बात करते हैं
इतना ही बोल पाए थे,
आई सी यू वार्ड
गहरा सन्नाटा
और दहशत ...
चार बेड
सब एक से मरीज
कोमा में ....
बस !!!
आंख भर देखा
हाथ को छुआ
लगा -सोए ही हैं ...
कुछ कहना नहीं था ,
न ही सुनना
कहा-सुनी की गुंजाईश ही नहीं ....
बाहर आ
तीन दिनों से रूकी
सांस भरी ....
एक लम्बे ,पथरीले
कंटीले और उबाऊ ,
और एकाकी..
सफ़र पर चलने को......
.....
....
और बस चलते-चलते
घिसटते-दौड़ते
भागते-छिपते
खुशियों को पकड़ते
आ पहुंची हूँ
पड़ाव के करीब...
मुझे पता है-
तुम फिर चली जाओगी
बीत जाओगी
बीते सालों की तरह
पर अब चले ही जाना
अपना कोना लेकर .......

Wednesday, July 9, 2014

एक याद स्नेहिल मुस्कान की ...

"उत्पला बोरडोलाई" ...........एक ऐसा चेहरा जो आज भी याद आता है मुझे .......
बात है 1993 जुलाई की ......
मेरे पति सुनील के एक्सीडेंट की खबर मिलने पर गौहाटी के जिस अस्पताल में मुझे ले जाया गया था उस अस्पताल पर रिसेप्शन काउंटर पर छोटे कद की एक दुबली पतली हल्के सांवली सी हंसमुख लड़की ......हाँ यही पहचान याद है मुझे
मैं माँ और भाई के साथ वेटिंग स्पेस में बैठी रहती ....
और जब अपने दिमाग को शांत करने की कोशिश करती तो बस एक यही चेहरा था जिस पर नज़र रूकती थी और नज़र मिलते ही वो मुस्कुराती इस आशा में कि मैं भी मुस्कुराउंगी.....पर मैं असफल रहती .....पूरे दो महीने गुजारे थे  उसे देखते हुए ....
और इतने दिन में कुछ बेहतर हो गयी थी मैं ......मुस्कुराने लगी थी .....
शायद हर दिन ज़िंदा और मुर्दा लोगों को देखते-देखते एक यही बात समझ पाई थी कि मुस्कान वाकई कीमती है हर किसी को नसीब नहीं !!!
.
.
.
घर शिफ्ट किया तो कल ये शो पीस सामने आया और साथ लाया उत्पला की याद .....
.
.
अस्पताल से छुट्टी मिलने पर वापस आते समय "बेस्ट ऑफ़ लक" कहते -कहते उसकी आँखों में आँसू भी देखे थे मैंने .....और उसने एक पेकेट थमा दिया मना करने पर कहा- मेरी याद रहेगी !....
भरी-भरी आँखों से विदा ली थी मैंने उससे और अस्पताल के स्टॉफ से ....
.
.
.
कई दिनों बाद जब वक्त मिला और पेकेट खोला तो ये शो पीस देखा .....मन ही मन थैंक्स कहा और सजा लिया अपने घर में .... मुझे लगता है जैसे मेरे दोनों बच्चे ऐसे ही मेरी ओर ताकते रहते थे और हैं .....

जितने भी घर बदले इसे सजाए/संभाले  रखती हूँ ...

उत्पला आज कहाँ है नहीं जानती पर जहाँ कही भी हों वही मुस्कराहट बिखेर रही होंगी मैं उससे यही कहना चाहती हूँ ,जिन बच्चों के बारे में उनसे बताया था कि घर पर छोड़ कर आई हूँ ,आज बड़े हो गए हैं और उन्हें भी मैंने तुम्हारी तरह मुस्कुराना सीखा दिया है ........
मुझे विश्वास है वे भी तुम्हारी तरह मुस्कान बिखेरेंगे हर हाल में ........

Tuesday, July 8, 2014

पहली बारिश

अब लिखेंगे खूब बरस कर
हम बारिश पर कविताएँ
कहीं भरेंगे नाले,पोखर,
और कहीं पर सरिताएँ...

कहीं करेंगे मेंढक टर्र -टर्र
कहीं बजेगा झिंगुरी गान
बूंदों की टिप-टिप के संग में
पकौड़े होंगे ख़ास पकवान...

हल्की -हल्की बौछारों से
जब भीगेगा आँचल -तन
चुपके-चुपके भीग जाएगा
नयनों की बारिश में मन ...

झुके-झुके से पेड़ लटक कर
नन्हीं बूंदों को सहलाते हैं
उनको देख-देखकर मुझको
मेरे साजन याद आते हैं .....

ओ बरखा!तुम रोज़ ही आना
ले जाने को मेरा संदेसा
साजन को गीली पतिया से
शायद पीड़ा का हो अंदेसा !!!......

-अर्चना




Monday, July 7, 2014

बचपन

मेरे बालमंदिर की फोटो
कितना प्यारा होता है बचपन ...और बचपन की यादें .....घर के सामान की उठापटक के बीच से मिली ये तस्वीरें जैसे ही सामने आई ,सब अपने लोग याद आए .....और बहुत याद किया नितीन को ...मेरा बाल सखा .... मेरी दाहिनी और एक छोड़कर .....

Sunday, July 6, 2014

मेरा ईश्वर मेरे अन्दर ....

ब्लॉगर कैलाश शर्मा जी के ब्लॉग - Kashish - My Poetry से तीन साल पहले बनाया था ये पॉडकास्ट और पोस्ट किया था  गिरिश बिल्लोरे मुकुल जी के ब्लॉग मिसफ़िट पर 
आज मन किया "मेरे मन की"पर संजोने का ,क्यों कि ये मेरा बेहद प्रिय पॉडकास्ट है ....