Thursday, December 27, 2012

शाश्वत प्रेम

 आज आशीष राय जी के ब्लॉग "युग दृष्टि" से एक कविता -- शाश्वत प्रेम

आशीष जी अपनी कविता के बारें में कहते हैं---
"प्रेम की परिभाषा के बारे में कुछ कहना मेरे जिह्वा के वश की बात नहीं है ,. सांसारिक प्रेम से इतर शाश्वत प्रेम की परिकल्पना, जो शायद सृष्टि के संचालक की प्रकृति के प्रति प्रेम की द्योतक है । ये कविता  इसी शाश्वत प्रेम की तरफ इंगित करने की मेरी कोशिश मात्र है"---


Tuesday, December 25, 2012

एक थी दादी

संजय व्यास जी की एक रचना (मैंने इसे कहानी कह दिया है लेकिन है रचना )सुनिये -
"चारपाई पर बुढ़िया " 




इसे पढ़ सकते हैं संजय व्यास नामक ब्लॉग पर

लेकिन इसके साथ ये भी बताना चाहती हूँ कि जब मैंने ये रचना पढ़ी तो मन हो गया रिकार्ड करने का तो हमेशा की तरह रिकार्डिंग करके अनुमति के लिये भेज दिया संजय जी का मेल आई डी खोज कर और उनका जबाब मिला ये ...

शुक्रिया अर्चना जी.बहुत आभार आपका.आपने मेरी इस छोटी सी रचना को भरपूर मान दिया है.कहानी तो इसे क्या कहूं,बस रचना ही मान लें.आप इसे लिंक कर लें.मुझे ख़ुशी होगी.मैं स्वयं रेडियो में पिछले १८ बरस से नौकरी कर रहा हूँ,इसलिए कह सकता हूँ कि आपने इसे अपनी आवाज़ देकर इस रचना को गरिमा प्रदान कर दी है.
 अब मैंने ये तो सोचा ही नहीं था कि ये रेडियो में काम करते होंगें ... :-)
तो अपनी सारी गलतियों के लिये माफ़ी माँग लेती हूँ ...और इस कहानी की अनुमति देने के लिए भार भी करती हूँ संजय व्यास जी का ...

Friday, December 21, 2012

‘पंकिल’ - मेरे बाबूजी...

हिमांशु कुमार पाण्डेय जी के ब्लॉग सच्चा शरणम् से ठाकुर रविन्द्रनाथ टैगोर रचित गीतांजली के एक गीत का भावानुवाद जो किया है उनके बाबूजी यानि श्री प्रेमनारायण पाण्डेय "पंकिल" जी ने

और गीत है ये --
The song that I came to sing remains
unsung to this day.

I have spent my days in stringing and
in unstringing my istrument.

The time has not come true, the words have
not been rightly set; only there is the
agony of wishing in my heart.

The blossom has not opened; only the
wind is sighing by.

I have not seen his face, nor have
I listened to his voice; only I have
heard his gentle footsteps from the
road before my house.

The live long day has passed in spreading
his seat on the floor; but the lamp
has not been lit and I can not ask
him into my house.

I live in the hope of meeting with him;
but this meeting is not yet. (Geetanjali - R.N.Tagore)




इस भावानुवाद को पढें- सच्चा शरणम् पर

Thursday, December 20, 2012

काँची...

 दिल्ली की घटना से स्तब्ध मैं और मेरे सहयोगी आपस में बात कर रहे थे|     बात करते -करते ही अचानक मैंने कहा कि महिलाओं की भी क्या जिंदगी है, जितनी महिलाएं उतनी ही कहानियाँ ...और याद आई मुझे अपने यहाँ काम करने वाली दीदी की .....बोल पड़ी, "वो काँची ही थी अपने यहाँ..."
"वो मर गई..."बीच में ही बोल पड़े मेरे मित्र....
और मैं भौंचक्की सी देखती रह गई, "अरे!! कैसे ? कब ? मुझे तो पता भी नहीं चला?" प्रश्नों की झड़ी लगा दी मैंने...
"हाँ ,पिछले महिने ही २७-२८ तारीख को" बताया मेरे मित्र ने.."आपको नहीं पता?" पूछते हुए..

"नहीं तो ...किसी ने बताया भी नहीं" कहते हुए मेरी आवाज दब सी गई ...शायद ऐसी खबरों से मैं व्यथित हो जाती हूँ इसीलिए मित्रों ने मेरे सामने जिक्र नहीं किया था पहले...

याद आई काँची और उसके साथ ही उसकी कहानी...
दुबली पतली .सुन्दर नाकनक्श वाली गोरी सी लड़की ....दो बच्चे थे उसके ...उम्र भी कम लगती थी| यहाँ काम की तलाश करते-करते पहुँच गई थी स्कूल में मेरी ..क्लास की सफ़ाई करती थी और नर्सरी के बच्चों की देखभाल के लिये मदद करती थी ...
एक दिन खेल के मैदान में मिल गई जब फ़्री थी , एक कमरा मिला हुआ था उसे ,उस दिन शायद बच्चा बीमार था उसका तो उसे लेकर खड़ी थी गोद में ..
मैंने तभी पूछा था, "तुम्हारा बच्चा है?"  
"हाँ" कहते हुए बताया था,  'दो हैं मेरे बच्चे एक लड़का एक लड़की" ...बताते बताते वो स्कूल के बच्चों को खेलते हुए देख रही थी ..उसका दूसरा बच्चा एक बेटी थी जो बड़ी थी पास के ही स्कूल में जाती  थी ... तभी आर टी ई के बारे में सुना था उसने कहीं से ,मुझसे पूछने लगी,  "मेडम क्या मेरे बच्चे को भी स्कूल में भरती सकती हूं? कहाँ से मिलेगा फ़ार्म ? कौनसे -कौनसे कागज लगेंगे?"

"एक के तो ३०० रूपये लगते हैं मुझे अगर इसका इसमें हो जाएगा तो मेरे दोनों बच्चों को स्कूल भेज दूंगी।" ये कहते हुए उसकी आँखों मे चमक देखी थी मैंने...
मैंने कहा कि जन्म प्रमाण पत्र ,राशन कार्ड,माता -पिता का परिचय पत्र....
उसने कहा,  "ये नहीं हुए तो ?"मैंने कहा, "फ़िर तो मुश्किल होगा ,तुम्हें ये कागज बनवाने पड़ेंगे"
"राशन कार्ड तो है मेरा पर ...."कहते हुए रुक गई वो ...
मैंने पूछा,  "पर क्या? घर पर है,तो ले आओ या मंगवा लो" ...फ़िर पूछा,  "इनके पापा क्या करते हैं?"
वो अनसुना कर आगे बोलने लगी "ला तो नहीं सकती मैं ...अब दूबारा घर नहीं जा सकती"
मेरी जिज्ञासा बढ़ी, "पूछा क्यों नहीं जा सकती ?"
और फ़िर उसने बताया, "मैंने और इनके पापा ने भाग कर शादी कर ली थी "लव मेरिज" ...मंदिर में ...फ़िर मैं माँ के घर नहीं गई..कुछ दिन उसने बहुत अच्छे से रखा फ़िर दारू पीने लगा और मुझ पर शक करने लगा ,घर में बन्द करके जाता था किसी से बात नहीं करने देता था|मेडम जी बहुत सहा, मैंने सोचा बच्चे हो जाएंगे तो इसका शक चला जाएगा ..बच्चे हुए तो रखता तो अच्छा ही था ,मगर पैसे की कमी रहने लगी फ़िर गुस्से में बहुत मारता था ...बाकि तो कुछ नहीं पर शक इतना कि आजू-बाजू भी कोई मदद नहीं करता था|" मैं परेशान हो जाती थी| एक दिन कह दिया, "मैं चली जाउंगी बच्चों को लेकर|" तो बोला,  "चली जा". बस यही बात बहुत बुरी लगी मेडम जी ...मैं उसके साथ अपना घर बार माँ-बाप सब छोड़ कर आई थी ...मार खाते हुए भी रहती थी क्यों कि उसे प्यार करती थी ..पर उसने कैसे कह दिया चली जा ....मैं एक दिन निकल आई घर से उसे बिना बताए ...बच्चों को लेकर ..

कुछ दिन एक आश्रम में रही पर वहाँ एक साल से ज्यादा नहीं रखते .. वहाँ की मेडम ने यहाँ काम दिलवा दिया ...
मैं सोच रही थी कितनी हिम्मत वाली है ...

फ़िर छुट्टीयों के बाद पता चला वो किसी के साथ चली गई है .......बच्चों सहित ...शायद शादी भी कर ले ...
लेकिन फ़िर एक बार स्कूल में नज़र आने लगी शायद उसके बच्चों को साथ नहीं रख रहा था जो उससे शादी करने वाला था....लेकिन फ़िर ५-६ माह बाद चली गई शायद उसे काम से निकाल दिया गया था...उसके साथ ही एक और परिवार को भी निकाला  गया सुना इसे लेकर दोनों पति-पत्नि झगड़ते थे ...
फ़िर अचानक मुझे ये पता चला कि उसकी मौत हो गई ....कैसे ? का जबाब मिला बीमार हो गई थी ,हिमोग्लोबिन कम हो गया था बहुत,  शायद कोई इन्फ़ेक्शन भी .....
"और उसके बच्चे? वे कहाँ गए?".
"शायद बाद मे उसके भाई के पास चली गई थी ...वो ही ले गया बच्चों को"
और खतम हो गई काँची की कहानी ...जब भी याद आती है तो मन में एक बात हमेशा आती है- कि नाम भी पाया तो "काँची"
लेकिन क्या मालूम कि उसकी बेटी जब बड़ी होगी तो उसकी कहानी क्या होगी........
पर मन कहता है कि -काश! तुम्हारी  बेटी की कहानी सुखांत हो काँची.........

 

Tuesday, December 11, 2012

दैनिक प्रार्थना...


दैनिक प्रार्थना .... 
उच्चारण की कुछ गलतियों के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ,
(भविष्य में सुधार करने पर फ़िर इस प्लेयर को बदला जा सकेगा)

हरि: ऊँ !     हरि: ऊँ !!   हरि: ऊँ !!!  
ब्रम्हानन्दं परमसुखदं केवलं ज्ञानमूर्तिम्,
द्वन्द्वातीतं गगनसदॄशं तत्वमस्यादिलक्ष्यम्।

एकं नित्यं विमलमचलं सर्वधीसाक्षीभूतम्,
भावातीतं त्रिगुणरहितं सद् गुरूं तं नमामि॥

कर्पूरगौरं करूणावतारं संसारसारं भुअजगेन्द्रहारं,
सदावसन्तं ह्रदयारविन्दे भवं भवानीसहितं नमामि॥

नीलाम्बुजश्यामलकोमलांगं, सीतासमारोपितवामभागम्।
पाणौ महासायक चारूचापं, नमामि रामं रघुवंशनाथम्॥

वसुदेवसुतं देवं कंसचाणूरमर्दनम्।
देवकीपरमानन्दमं कॄष्णं वन्दे जगद् गुरूम्॥

मूकं करोति वाचालं पंगुं लन्घयते गिरिम्।
यत्कॄपा तमहं वन्दे परमानन्दमाधवम्॥


ईशावास्यमिदं सर्वं यत् किं च जगत्यां जगत्।
तेन त्यक्तेन् भुंजीथा: मा गॄध: कस्यस्विद्धनम्॥


प्रात: स्मरामि हॄदि संस्फ़ुरदात्मतत्वं
सत् चित् सुखं परमहंससगतिं तुरीयम्।
यत् स्वप्नजागरसुषुप्तमवैति नित्यं
यद् ब्रह्म् निष्कलमहं न च भूतसंघ:॥

प्रातर्भजामि मनसा वचसामगम्यं
वाचो विभान्ति निखिला यदनुग्रहेण|
यं नेति नेति वचनैर्निगमा अवोचं
स्तं देवदेवमजमच्युतमाहुरग्र्यम्
 

प्रातर्नमामि तमसः परमर्कवर्णं
पूर्णं सनातनपदं पुरूषोत्तमाख्यम्|
यस्मिन्निदं जगदशेषमशेषमूर्तौ
रज्ज्वां भुजंगम इव प्रतिभासितं वै
 
(पूरे श्लोक तो नहीं लिख पाई हू,लेकिन लेकिन अनूप शुक्ला जी के कहने पर कुछ को टाईप किया है ,भविष्य में एडिट करके पूरे लिख देने की कोशिश रहेगी)








Sunday, December 9, 2012

पुराने रिश्ते -पुराने लोग

पता नहीं ये योग है या संयोग -- आज प्रो. सरोजकुमार जी के यहाँ जाना हुआ माँ को लेकर( कल वादा जो कर लिया था)...फ़िर वे और माँ बीते दिन याद करते रहे ,और मैं सुनती रही........याद करते-करते बताया कि केमेस्ट्री पढ़ने आते थे पिताजी के पास ......तभी उन्होंने माँ से पूछा मिसेस देसाई से कभी बात हुई या नहीं आपकी ? एक ही आँगन था आपका...माँ ने बताया कि एक बार हुई करीब २०-२२ साल पहले ..और अचानक उन्होंने मिसेस देसाई को फोन लगाया और उनसे कहा मेरे यहाँ कौन आया है ,पता है?आपकी पडोसी...फ़िर माँ से बात करवाई ,उन्होंने फोन नम्बर देने को कहा और माँ ने फोन मुझे पकड़ा दिया...मैंने नमस्कार कहा और वे बोली तुम तो पैदा भी नहीं हुई थी तब .....मैं कल उसी डॉ. के यहाँ आकर मिलती हूं वो मेरा भी डॉ. है मेरे बेटे के साथ पढ़ा है ....अब कल उनसे मुलाकात तय हुयी है ....:-) ये पुराने लोग भी कितने अजीब से रिश्तों में बँधे होते हैं.....
 ये चित्र १९ जनवरी २०१२ का है जब मेरे बच्चों को शुभाशीष देने वे आये थे चित्र में माँ और मेरे साथ प्रो. सरोजकुमार जी 
इसी के साथ मुझे एक और वाकया याद आ गया-- बात तबकी है जब मेरी शादी के बाद मैं और सुनिल राँची आने से पुर्व अपने रिश्तेदारों के घर मिलने गये थे ,मेरी बड़ी ननद जी के घर भी जाना तय हुआ था,जो "भंडारा"(महाराष्ट्र) में  रहती थीं। नये लोग ,नये शहर और नई भाषा का सामना करते -करते बहुत घबराहट सी होने लगी थी ,माँ का घर छोड़े ८ दिन होने आये थे। नागपूर से भंडारा बस से गये थे ,जैसे ही हम भंडारा उतरे मुझे कुछ जाना पहचाना सा लगने लगा ,समझ नहीं आ रहा था नाम सुना सुना क्यों लग रहा है ...खाना खाकर हम बैठे ही थे और मेरे दिमाग में विचार खलबली मचा ही रहे थे कि याद आया मैने ये एक पोस्ट कार्ड पर एड्रेस में पढ़ा है -
फ्राम- 
पी. डी. चन्दवासकर 
खामतलाव,गुप्ते का वाड़ा 
भंडारा(महाराष्ट्र)
और याद आते ही मुझसे रहा नहीं गया , ननद जी से पूछा -यहाँ कोई गुप्ते का वाड़ा है क्या ?
जबाब मिला- हाँ,पास ही है।
मैंने पूछा- क्या वहाँ जा सकते हैं?
उन्होंने पूछा - क्यो? कोई जान-पहचान वाला रहता है?
ह्म्म्म, हमारे यहाँ हर साल दिवाली पर एक पोस्ट-कार्ड आता है, दीपावली और नये वर्ष की शुभकामनाओं का...उस पर ये एड्रेस रहता है, और मुझे भंडारा नाम से ये ही याद आया ...
मेरे बताने पर वे मुझे वहाँ लेकर गई,एक घर पर पी. डी. चंदवासकर की नामपट्ट देकर मैंने द्वार पर दस्तक दी...एक  महिला ने द्वार खोला,मैंने कहा -गुप्ते जी से मिलना है,उन्हें बुला दीजिये..
वो महिला अन्दर चली गई ,थोड़ी देर बाद मेरे पिता की उम्र के एक व्यक्ति बाहर आये बोले - मैं गुप्ते ..
मैंने चरण छुए ,शीर्वाद देते हुए वे बोले मैंने तुमको  पहचाना नहीं...
मैंने कहा- मैं खरगोन के बी. एल. पाठक वकील साहब की बेटी अर्चना...
और उनके चेहरे पर जो खुशी देखी बयाँ नहीं कर सकती...उन्होंने बताया कि-" मैं और तुम्हारे पिताजी तुम्हारे जन्म से भी पहले इन्दौर में एक ही कॉलेज में लेक्चरर थे...बाद में उसने वकालात कर ली और खरगोन चला गया ,मैं भी कुछ सालों बाद अपने घर आ गया तबसे यहीं हूँ ,वो तो बहुत व्यस्त हो गया लेकिन मैं उसे भुला नहीं पाता हू....
...और आपके कार्ड का इन्तजार हम करते हैं -मैंने जोड़ा ..और बताया कि किस तरह यहाआई ..
उन्होंने मुझे नेग देते हुए कहा ये भी तेरा ही घर है  ....
जब वापस घर लौटी और पिताजी को बताया तो उनके चेहरे के भाव भी बता रहे थे जैसे वे खुद मिल लिये हो अपने दोस्त से ...
अब न पिताजी रहे न उनके दोस्त चंदवासकर अंकल....लेकिन मुझे दोनों याद आ ही जाते हैं... 
चाहती हूबच्चों को भी यादों में कुछ ऐसा ही दे जाएँ हम....


Saturday, December 8, 2012

खुशनुमा मौसम...

                                               

फ़िर सुहाना मौसम आया है
हर ओर बहुत खूबसूरत नजारा है
खुश्बू से मैं जान पाई हूँ
इस मौसम को महसूस पाई हूँ
तुम्हारा साथ था तो खिड़की के बाहर दिख जाता था
या सारा मौसम खुशबू समेत बाँहों मे सिमट आता था
अब उस खिड़की में झीना परदा पड़ा है
कुछ दिखता भी है तो बस धुंधला सा है
ये धुंधलाहट आँखों में है या बाहर
कौन बतायेगा मुझे
क्या आओगे फ़िर
या मुझे आना होगा
कोई राह तो सूझे...

Wednesday, December 5, 2012

फ़ेरे...

इस गीत के साथ देखिये बेटी पल्लवी की शादी के फोटो की स्लाईड--




और एक गीत मेरी पसन्द का --...तेरा मेरा साथ रहे...

Tuesday, December 4, 2012

मीठी याद - स्मृतियों के झरोंखे से

 कई साल बीत गए,कभी सोचा नहीं था कि ये कविता मेरे हिस्से आएगी...पर जो भी मधुर एहसास होते हैं, वे स्मृतियों में जिंदा रहते हैं हमेशा... और ये तो मीठी बोली भी है ...जब पहली बार आसनसोल गई तो कामवाली बाई बंगालीभाषी  थी ,हिंदी बिलकुल भी बोल नहीं पाती थी और मैं बंगाली मुश्किल से समझती थी और बोलना तो और भी मुश्किल ..जब हम एक-दूसरे को अपनी बात समझाते थे तो उसका कहा एक वाक्य आज भी याद आता है --- थेके थेके या थाके थाके  शिके जाबो....जैसा कुछ कहा करती थी वो मुझसे ........

मृदुला प्रधान जी के ब्लॉग से एक कविता पढ़कर रिकार्ड करने की कोशिश की है ,मैं बंगला जानती तो नहीं पर करीब २० साल पहले कुछ समय के लिए बंगला मकान मालिक के घर में रहने का सौभाग्य मिला था,तो कुछ स्मृति के आधार पर ही किया है,शायद ठीक हुआ हो...

Sunday, December 2, 2012

रिश्तों की डोर...


रिश्तों की डोर
कसकर बाँधो
या बाँधकर कसो
दोनों वक्त टूटने का डर है...
और यही टूटने का डर
रिश्तों को कस कर बाँधे रखता है
और बाँध कर कसे रखता है...
पर कैसे?
यही सवाल हरदम...

अब इसे सुनिये मेरी आवाज में एक नये प्रयोग के साथ ...




Sunday, November 25, 2012

हमारा हवामहल "इबादत"

आज आपके लिए मैं, नहीं हम, जी हाँ ये आभासी रिश्तों का एक सम्मिलित प्रयास है, और हम लेकर आए हैं, आपके लिए
..ओ’ हेनरी की कहानी AService Of Love ( अ सर्विस ऑफ़ लव) का नाट्य रूपान्तरण " इबादत".... इस कहानी को नाट्य में रूपांतरित किया है हमारे छोटू उस्ताद यानि अनुभव प्रिय ने जिससे आपका परिचय करवाते हुए कहा था मैंने .. कि ये तो अभी शुरुआत है देखिये आगे-आगे करते हैं क्या?......अपनी पढा़ई के बीच से समय चुराना कोई अनुभव से सीखे ...अनुभव बच्चों के लिये एक आदर्श है...
                   अभिनव के किरदार को आवाज दी है - अनुभव प्रिय ने


और इस नाटक का संपादन किया है मेरे सलिल भैया यानि (सलिल वर्मा ) ने जो लिखते हैं संवेदना के स्वर और  चलाबिहारी नामक ब्लॉग पर और बाँटते हैं जीवन के अनुभव, अपने संस्मरण अपनी भाषा में हम सबसे ...बिलकुल हल्के-फ़ुल्के तरीके से ... 
                                   मकान मालिक के रूप में - सलिल वर्मा
                                            
अब आता है नाटक को अन्तिम रूप से संगीत से सँजोने का कार्य..और ये कार्य  कई कठिनाईयों और  मुश्किलों का बड़ी बहादुरी से सामना करते हुए कर दिखाया है हमारे ठाकुर साहब यानि ठाकुर पद्मसिंह जी ने जो खुद फ़िलहाल नौसीखिया है ...और लिखते है पद्मावली , ढिबरी ,पद्मसिंह का चिट्ठा और सिंहनाद नामक ब्लॉग ...........................................
                                पार्श्व संगीत संयोजक - ठाकुर पद्मसिंह जी
                                                   
मैनें कुछ नहीं किया बस सिर्फ़ इन सबको एक जगह इकट्ठा करने की कोशिश की है ..... 
                         नलिनी की आवाज है मेरी यानि - अर्चना चावजी की....


आप बताईयेगा हमारा सम्मिलित प्रयास आपको कैसा लगा?....

इस नाटक को रिकार्ड करते हुए हमने हमारे परिवार के सदस्यों को बहुत परेशान रखा है जिसके लिये हम उन सभी से माफ़ी चाहते हैं ....लेकिन  भविष्य में सहयोग की अपेक्षा भी रखते हैं .." समझे कि नहीं " तो सुनिये  हमारा हवामहल के अन्तर्गत ओ’हेनरी की कहानी "अ सर्विस ऑफ़ लव" का नाट्य रूपान्तरण - इबादत .... 








Friday, November 23, 2012

फ़र्क

ये तस्वीर कुछ दिनों पूर्व स्कूल जाते हुए ली थी ,हुआ ये था कि मैं अपने घर से बस स्टॉप तक जाने के लिये निकली थी कि मेरे आगे -आगे ये नज़ारा देखा ...
बेटा बेफ़िक्री से जेब में हाथ डाले स्कूल की बस के स्टॉप तक चल रहा था ,और माँ ने उसका स्कूल बेग उठा रखा था,जबकि लग रहा था कि बेटी का हाथ पकड़ा हुआ है ।

माँ के पैरों की चाल देख कर ही अंदाजा लग रहा था (शायद आपको भी लगे)कि बहुत तनाव है -
-इसे छोड़ना है ...आकर छुटकी को तैयार करना है.....इसके पापा भी उठने वाले होंगे .....चाय बनाना है.... नाश्ता -टिफ़िन....वगैरह वगैरह....कामों का ढेर ...

और मैं छुटकी की चाल देख कर उसके मन के भावों को पढ़ने की कोशिश कर रही थी --
मम्मा भैया को अकेले जाने दो न! ..... मुझे इत्ती जल्दी क्यों उठा दिया....पापा नहीं छोड़ सकते भैया को.....कल से मैं नहीं आउंगी :-(  ...आप रोज -रोज ऐसे ही बोलती हो ....भैया बड़ा नहीं हुआ अभी ?....मैं कब बड़ी होउंगी....मुझे भी बड़े होकर जल्दी उठना पड़ेगा ?.....

और मुझे ये देखकर अपने बच्चों का छुटपन याद आ रहा था...बेटी तब भी जल्दी उठकर साथ चलती थी मेरे और बेटा देर से उठकर हमसे आगे निकल भागता था...



स्वभावगत ही होता है शायद ऐसा......

Tuesday, November 20, 2012

सुनो ! मत छेडो़...

आशीष राय जी के ब्लॉग युग दृष्टि से एक गीत ....




सुनो ! मत छेड़ो सुख तान
मधुर सौख्य के विशद भवन में
छिपा हुआ अवसान

निर्झर के स्वच्छंद गान में,
छिपी हुई वह साध
जिसे व्यक्त करते ही उसको,
लग जाता अपराध
इस से ही वह अविकल प्रतिपल
गाता दुःख के गान ! सुनो मत छेड़ो सुख तान

महा सिन्धु के तुमुल नाद में,
है भीषण उन्माद
जिसकी लहरों के कम्पन में,
है अतीत की याद
तड़प तड़प इससे रह जाते
उसके कोमल प्रान! सुनो मत छेड़ो सुख तान

कोकिल के गानों पर ,
बंधन के है पहरेदार
कूक कूक कर केवल बसंत में ,
रह जाती मन मार
अपने गीत -कोष से
जग को देती दुःख का दान ! सुनो मत छेड़ो सुख तान

हम पर भी बंधन का पहरा
रहता है दिन रात
अभी ना आया है जीवन का
सुखमय स्वर्ण प्रभात
इसीलिए अपने गीतों में
रहता दुःख का भान! सुनो मत छेड़ो सुख तान
-- आशीष राय 

Sunday, November 11, 2012

कान्हा...


 ये पेंटिंग बनाई है श्रीमती विजयश्री मिश्रा जी ने जो आकाश मिश्रा  की माताजी हैं....इस पर आकाश ने कविता भी लिखी है जिसे आप उसके ब्लॉग -आकाश के पार पर पढ़ सकते हैं । और आकाश की कविता को सुन सकते हैं यहाँ --

और अब इस पेंटिंग और पॉडकास्ट के साथ सुनिये ये भजन ...जिसे उपलब्ध करवाया  है एक बेहद साधारण पाठक ने ---

Saturday, November 10, 2012

वो शाम ...


ठंडी पड़ती धूप

उस पर सिंदूरी सा रूप
हल्की-हल्की बहती हवा
गम दूर करने की जैसे दवा
महक जिसमें होती खास
जगती तुझसे मिलने की आस
इन्तजार का होता खात्मा
और जी उठती मेरी आत्मा
न होता कोई और काम
बस आराम ही आराम
बीतती ऐसी मेरी हर शाम
काश! बस तेरे ही नाम...
-अर्चना

Wednesday, November 7, 2012

सितारे की चमक ...

वैसे तो सूरज को दीपक दिखाने वाली बात है पर एक प्रयास किया है पढ़ने का--

आज सुनिये एक ऐसे सितारे की लिखी कहानियाँ जिसकी चमक बढ़ती जा रही है ....



(बिना सुने पोस्ट करने की अनुमति देने के लिए आभार!)





और  पढ़ने को यहाँ है  ...कहानियाँ


यहाँ आप इनकी किताब  "चौराहे पर सीढ़ियाँ "लेने के लिये  क्लिक कर सकते हैं

तस्वीर...




1-
तस्वीर से टकराकर लौटती है
झरोंखे से पड़ती धूप
चौंधियाकर-
आँखों के बन्द होते ही
तुमसे बिछड़ना
याद आ जाता है ....

2-
तुम्हारा बिछड़ना,
और बिछड़कर

तस्वीर बन जाना,
धूप से नफ़रत है -
तब से ....

3-
भोर से ही बैठे थे 
तस्वीर सजाने को
धूप चढ़ी तो रंग निखरा

अब शाम ढलने को है
कहीं रात के अँधेरे में 
बिछड़ न जाना तुम.....

४-

बिछुड़ना उदासी फ़ैला रहा है
हम सबके बीच
कोई हँसाओ तो जरा सबको.....

५-
हँसती हुई तस्वीर देखो
ज़रा तुम भी
कैसे रंग भरती है जीवन में
और ये देखो
इंद्रधनुषी रंग
जाने का मन नहीं करता मेरा...

-अर्चना













Saturday, November 3, 2012

शुभ - दीपावली



 ..
.रीवा से वापस लौटते समय किसी स्टेशन के आऊटर पर रूकी ट्रेन ...और  दिवाली के स्वागत में सजा ये घर देखा.....बच्चे अपनी पूरी मस्ती में ....एक ओर जहाँ बाजू के घर में भैया मोबाईल में व्यस्त हैं,वहीं पडोस की आँटी जी शाम का खाना बनाने  की तैयारी में व्यस्त ...हर कोई अपना-अपना काम कर रहा है ...(मैं भी ...)....और जब ट्रेन चल पड़ी तो ..टाटा करना नहीं भूली छुटकी गुड़िया.....

Friday, November 2, 2012

घर से बाहर निकलो ...


तुम्हारा बाहर निकलना जरूरी है
इस घर के बाहर के लोगों के लिए
उन लोगों को देखने के लिए
जिनके पास घर नहीं है
न थकन मिटाने के लिए
न घर के बाहर खड़े हो कर पुकारने के लिए
सूरज का उजाला हमेशा उनके सर पर होता है
और वो भूले से भी नहीं लौट पाते अपने घर
एक बार ही सही..
उनसे मिलने के लिए
घर से बाहर निकलो.....
- अर्चना

Friday, October 19, 2012

संगीत की मधुर लहरी....




विडियो यू ट्यूब के सौंजन्य से ....

यूँ ही संगीत सुनते-सुनते एक दिन ये विडियो मिल गया था ...किसी फ़ोल्डर में छुपा पड़ा था कल अचानक  फ़िर सामने आ गया आप भी सुनिये..और खो जाईये ...संगीत की मधुर लहरी में .......




Wednesday, October 17, 2012

आँखें बोलती हैं...

 देखो! हँसना मत ....
मेरी इस नादानी पर ...
मैं ,हाँ मैं अब बड़ी हो गई हूँ ,कहते हैं--मेरे बच्चे!.....
और बूढ़ी भी हो रही हूँ...कहते हैं मेरे बच्चे!....
पर मैं जानती हूँ...
मैं अभी नादान हूँ....
नासमझ हूँ...
बातों को देर से याद कर पाती हूँ,
और जल्दी भूल जाती हूँ...
आँखें -देखना पहले से जानती थी ...
पैरों को चलना ...और
जीभ को बोलना- माँ-पिता ने सिखाया...
जीभ ने स्वाद लेना अपने आप सीख लिया..
आँखों से पढ़ना,और हाथों से लिखना सीखा दिया गया मुझे...

आँखें बोलती भी है ...अब जाना है मैंने .......

Tuesday, October 16, 2012

जय माता दी!

                       आप सबको नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ


Saturday, October 13, 2012

दिल दुखा है टूटा तो नहीं है ...

 सपनों के पीछे भाग रहे   इस लड़के अभिषेक कुमार के सारे सपने सच हों यही चाहती हूँ ...स्नेहाशीष के साथ ....
 अभि के ब्लॉग एहसास प्यार का से एक पोस्ट
तुम्हारे खत...
आवाज किसकी है, ये बताना जरूरी नहीं है...

Thursday, October 11, 2012

पाती...


नाम जो लिख कर ले जाती हवा मेरी पतिया
जाकर पहुंचाती मेरा संदेस,तुमसे कहती बतिया
द्वार खोले अब भी हर पल तकती हूं राह
देखकर सूना घर निकलती हैं बस आह
नहीं भाती अब मुझे भोर के सूरज की लाली
बहुत बैचेनी से कटती है राते काली -काली
नदी की तरह बहती सी जिन्दगी है अब मेरी
जाने कब किस ओर मुड जाए ये धारा उफ़नती.............

-अर्चना

Monday, October 8, 2012

सात भाषाएँ,सात गीत और एक मधुर धुन...एक बेहद साधारण पाठक की पसन्द के ...

एक बेहद साधारण  पाठक...  जिसकी अपनी पहचान है ...सबसे जुदा भीड़ में अलग-सा .......फ़िलहाल खुद अध्ययन में व्यस्त ...अभी बिना ब्लॉग वाला ब्लॉगर -क्यों कि उस पर आए प्रश्नों के उत्तर देने का समय नहीं मिलता उसे और बिना उत्तर दिये रह नहीं पाता ..आदत है......(आदत से तो सभी लाचार हैं यहाँ )     :-)
..और  जिसके अनुसार सुबह-सुबह बढ़िया नाश्ता पेट के लिए और संगीत मस्तिष्क के लिए जरूरी ...

जिसकी  यही बात अच्छी लगती है- सबसे अलग हट कर कुछ करने की smile
मुझे ‘दीदी’ कह देने पर उस पर अड़े रहना भी...:-)
तो सुनिए उसकी पसंद के सात गीत सात भाषाओं के
राजस्थानी 



तेलुगु



तमिल



हिंदी



बंगाली



अंग्रेजी


पंजाबी



अंत में आईरिश गीत की बाँसुरी पर धुन


Saturday, October 6, 2012

शाश्वत प्रेम...

हर तरफ़ बस तुम ही तुम ....ये ऐसा भाव है जो सिर्फ़ महसूस किया जा सकता है .... आप भी महसूस कीजिए --
सलिल वर्मा जी की एक लघुकथा में --- मैं हूँ ना!



और अब एक गीत मेरे मन से ---तुम्हीं मेरे मन्दिर तुम्हीं मेरी पूजा
 


Wednesday, September 26, 2012

शायद ....गज़ल...

कभी जो राह तकते थे वो अब नश्तर से चुभते हैं
किताबों में रखे हैं फ़ूल वो अब खंजर से दिखते हैं...

हुई ये आँख भी गीली और उदासी का समन्दर है
अगर कोई जाम भी छलके तो आँसूओं से छलकते हैं...

कभी तुम लौट कर आओ इसी उम्मीद में अब भी
लौटती सांस से हरदम, बड़ी खुशियों से मिलते हैं...

न जाने कौन सा किस्सा, किताबों सा छपा दिल में
उसी की हर इबारत से, वो किस्मत को बदलते हैं...

-अर्चना 

Saturday, September 22, 2012

कोई चेहरा भूला सा ...

संजय अनेजा जी के ब्लॉग मो सम कौन कुटिल खल ......?से एक पोस्ट 

कोई चेहरा भूला सा
इस पोस्ट के बारें में कुछ भी कहना ठीक नहीं होगा सिर्फ़ सुना और महसूस किया जा सकता है --

जो भी प्लेयर चले दोनों में से -









Friday, September 21, 2012

मनाओ जश्न कि...चूर होना है...






जीवन क्या है
पानी का बुलबुला
क्षण भंगुर...

आँखों की नमी
धुंधला देती सब
हँसना होगा...

लड़ना होगा
खुद को ही खुद से
खुद के लिए...

बढ़ना होगा
निड़रता से फ़िर
बेखौफ़ होके...

धीरज रखो
दुख में भी अपने
मुस्कान लिए...

औरों के लिए
भूल कर खुद को
मनाओ जश्न....

मनाओ जश्न
कि थकना है हमे
चूर हों हम...

-अर्चना

Tuesday, September 18, 2012

माँ तो बस माँ हैं ...

कुछ दिनों पूर्व माँ आई हुई थी मेरे पास.... मेरे सुबह स्कूल चले जाने के बाद दिन में वे घर पर रहती थी, समय बिताने के लिए घर की साफ़-सफ़ाई में लगी रहती थी ..मैं स्कूल से आकर कम्प्यूटर पर...... तो वे मेरे पास आकर बैठती  मेरे बनाए पॉडकास्ट सुनना पड़ता उन्हें ...एक दिन शिल्पा जी की पोस्ट रामायण पढ़कर सुनाई मैंने और उन्हें कहा अक्षर बड़े कर देती हूँ आप भी कर सकती हैं रिकार्ड ..और बस हमारी माँ भी हमारी माँ ही हैं कर दिया श्री गणेश शिल्पा मेहता जी के ब्लॉग रेत के महल से एक पॉडकास्ट तैयार....









आस्था,श्रद्धा और विश्वास...साफ़ झलकता है माँ की आवाज में ........रेत के महल से रामायण भाग -१