Tuesday, July 24, 2018

बीते हुए लम्हे


आज २४ जुलाई फिर से सामने आ खड़ी हुई है -कुछ याद चित्रों के सहारे 

















8 comments:

vibha rani Shrivastava said...

हो सके तो आज ऋता जी से बात कर लें

सादर

Usha Kiran said...

महसूस कर सकती हूँ ....साथ हूँ आपके 🤝

sangita said...

कैसे कहूँ कि धैर्य रखो,बस इतना सदैव साथ हूँ 😍🤝🙏

देवेन्द्र पाण्डेय said...

आपके साहस और संघर्ष को नमन करता हूं।

संगीता पुरी said...

क्या कहूँ ?
धैर्य बनाये रखें !!

Dilbag Virk said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 26.07.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3344 में दिया जाएगा

धन्यवाद

Smart Indian said...

🙏🙏🙏

सदा said...

.... 🙏🙏