Friday, December 13, 2019

अदरक ,तुलसी वाली चाय

बहुत दिनों बाद भोर में 
इस प्रहर नींद खुली 
कारण सिर्फ इतना कि-
दिसंबर कि सर्द-सर्द 
मीठी सी रात का आखरी प्रहर ...
लिहाफ भी ठंडा 
सर्द और कुडकुडा हो चुका है 
प्रेम कविता ऐसे ही प्रहर जन्म लेती है 
सूरज का इंतज़ार-
कुहासे  की चादर में 
पंछियों का कलरव 
ओस के बगीचे में
देखने का मन ,
सुनने का मन -
रोशनदान से कि
चाँद -चांदनी में 
जाने क्या गपशप हुई
और ...
एक अदद चाय कि दरकार ....
बेड-टी ...
....
बालकनी कि दूसरी कुर्सी 
झूल कर- कर रही है आवाज 
कि जैसे कोई उठकर गया है अभी ....
पलकें खोलूं या न खोलूं 
सच है या सपना
सपना हो -तो सच हो...
सच होता है - 
भोर का सपना ...
ठण्ड बढ़ी है...
एक और कड़क चाय कि दरकार है ..
अदरक वाली ...

5 comments:

Onkar said...

सुन्दर प्रस्तुति

Anonymous said...

Very Nice Article
Thanks For Sharing This
I Am Daily Reading Your Article
Your Can Also Read Best Tech News,Digital Marketing And Blogging
Your Can Also Read Hindi Lyrics And Album Lyrics

Prashant Baghel said...

Thanks For Sharing This Article
I am Reading Daily Your Posts
Keep Up Daily Upadate
Read More AboutJio Phone Recharge Plan List Detail 2020 - 2021

bollywood said...

very informative your article. i'm dialy read your post.
keep up daily upadate.

https://www.newlirics.in/

Rohit said...

Nice Site.

Get All songs lyrics here Lyricser Lyricser