Saturday, June 11, 2011

कुछ नया नहीं तो पुराना ही सही ....

15/01/2009 को पोस्ट किया था आज फिर वही

क्या मै लिखती हूँ  ?????????

एक दिन  अचानक पता चला की मै लिखने लगी
थोड़ा-बहुत नही ढेर सारा उगलने लगी ,
कहाँ से मुझको लिखना  आया ?,
साहित्य  का ज्ञान  कहाँ से पाया ?,
बहुत सोचा मगर समझ में नही आया !
फिर  लगा साहित्य  है?,या कुछ और ?
पर कुछ और होगा तो क्या ?????????????????
फिर  भी कुछ हाथ नही लगा ,
बहुत सर खपाया ,
और इसी उधेड़बुन में अपना पेन उठाया ,कागज पर रखा 
अरे ये क्या ?वो चलने लगा ,
पता नही कैसे ?
रुकने का नाम ही नही ले रहा था ,
और तभी दिमाग की घंटी बजी !!!!!!!!!!
ऐसा ही कुछ हुआ होगा ,
दिमाग  में ही कोई कीडा कुलबुलाया होगा ,
जाने कब से दबा हुआ था पेन ,
कागज देखते ही बाहर निकलने को छटपटाया होगा ,
पेन कागज पर गिरा होगा ,
और कागज स्याही से भर गया होगा ,
पढ़े -लिखे  लोगो ने समझा होगा ,
और समझदारों ने ही कहा होगा --------------
मै लिखने  लगी ,थोड़ा बहुत नही ढेर सारा उगलने लगी !!!!!!!!!!!!!!

11 comments:

vatsal said...

hhhaaha kya likhte ho !....

Shayad mere brushes bhi kuch aisa hi kehte hain.

Arti Honrao said...

Mere saath bhi kayee baar aisa hi hota hai,
kagaz aur kalam ishq ladaate hain aur log sochte hai Arti ne likha hai :)



GBU and Regards
Arti

Anish said...

Hi!

On your blog for the first time.

Great stuff :)
Think I'll develop an interest into Hindi blogs now.

Archana said...

Thanks vatsal.
Arti aapako yaha pakar aashchryamishrit khushi hui,Thanks a lot
Anish thanks for your visit aakhir hindi to hamari matrabhasha hai interest to hona hi cchhiye.

rachana said...

waah arachana ji!! aapaki to niakl padi!1 kagaj aur pen! :)

Archana said...

thanks rachanaji nikal to padi par rasta nahi maloom.

उन्मुक्त said...

अच्छी कविता है। हिन्दी चिट्टजगत में स्वागत है।

लगता है कि आपका चिट्ठा हिन्दी फीड एग्रगेटर के साथ पंजीकृत नहीं है। यदि यह सच है तो अवश्य करा लें। सबको आपकी कविताओंं और लेखों का आनन्द मिलना चाहिये। हिन्दी फीड एग्रगेटर की सूची यहां है।

कृपया वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें। यह न केवल मेरी उम्र के लोगों को तंग करता है पर लोगों को टिप्पणी करने से भी हतोत्साहित करता है।

Archana said...

उन्मुक्त जी धन्य्वाद,
वर्ड वेरीफ़िकेश्न से मुझे भी परेशानी होती थी ,अब हटा पाई हू।
पन्जीकरण के बारे मे कोई जान्कारी नही है। निकट भविश्य मे जरूर कर लून्गी।

Arvind Mishra said...

आप तो पुरानी लेखिका लगती हैं क्योंकि अब तो की बोर्ड खट खटाया जाता है और मजमून सीधे डेस्कटाप पर उतारा जाता है:)

Abhishek Srivastava said...

bahut khoob Archana ji.... aaj pahli baar padha aapko accha laga....ek pasand thi dabi hui in sabko padhne ki lekin wo baahar hi nahi aa rahi thi or shayad wo is liye kyonki shayad maine kabhi dhyanhi nahi diya.... halka halka ahsas to tha lekin shayad wo halka hone ki wajah se jaan me nahi aata tha.... ab shayad thoda samajhne laga hun... aapki kai kavitayen padhi, kai lines padhi orsach bataun bahut hi pasand aai.... ummeed hai ki aap aise hi likhti rahenge......

sanjeev said...

Archana ji aaj bahut dino ke baad aapke blog ko dekh pa raha hu,aapki rachnao ko pd pa raha hu ab, mai to pahli baar kisi ke blog ko pd raha hu,naya hu is blog ki duniya me,koi sahity ka gyata bhi nahi hu ,maine aaj aapki ek rachana padi hai"kya mai likhati hu" ha aap likhati hai aur bahut gazab ka likhati hai, ye to mai aapki kuchh posts jo fb pe padi hai usi se jan paya hu,apne is me likha hai k koi kida kulbulaya hoga dimag me, shayad lagata hai ki apke antrman se ek ghharana foot pada ho, aur ek vicharo ka sailab aapki pnktiyo me dal kar utar aaya hai ek rachna ke rup me, kagz aur kalam to kewal jariya matr hai use vyakt karane ka, aur jaha tak aap ab nikal hi padi hai to raste ki parwah mat kariye,apne man ko udan bharane dijiye annat ki or ,aur bhi achhi rachnae niklengi man se, manzil jo mil gai to thahrav aa jayega,nikl padiye nai nai manzilo ki khoj me,
inhi nayi manzile hasil karne aapko bahut sari shubh-kamnae