Wednesday, June 15, 2011

मिसफिट:सीधीबात: दादी की पोथी ..और ग़ज़ल --

 जारी है ...सिर्फ श्रवण ....


मिसफिट:सीधीबात: दादी की पोथी  

और ये ग़ज़ल --

6 comments:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

मीना कुमारी की गज़ल.. तुम्हारी आवाज़ में और भी अच्छी लग रही है!!

mahendra srivastava said...

क्या बात है, बहुत सुंदर

Kailash C Sharma said...

बहुत सुन्दर..

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ही सुन्दर। स्वर वापस आ गया है।

Udan Tashtari said...

वाह!! आनन्द विभोर कर दिया.

सुज्ञ said...

भाव युक्त गजल और कर्णप्रिय स्वर लहरी!! सोने पे सुहागा!!