Wednesday, August 19, 2009

एक पैरोडी ----------सीख भरी---------सभी विद्यार्थियों के लिए -------------

ये एक प्रयास है नई पीढी को उसकी पसंद के तरीके से शिक्षा देने का ------


parodi.mp3

7 comments:

राजीव तनेजा said...

बहुत ही सुन्दर सीख भरी परोडी...


अर्चना जी इसे डाउनलोड कैसे कर सकते हैँ?...मैँ अपने बेटे को सुनाना चाहता हूँ

Udan Tashtari said...

छू कर....मेरे मन को///...की बहुत उम्दा पैरोड़ी...किसने गाई?? :)

Nirmla Kapila said...

ये आवज किस की है बहुत सुन्दर आभार्

Nirmla Kapila said...

ये आवज किस की है बहुत सुन्दर आभार्

रचना. said...

॒ समीर जी और निर्मला जी, ये पेरोडी अर्चना जी ने खुद गाई है.. आये दिन वे अपनी आवाज सुनवाती रहती है, फ़िर भी आप पहचान नही पाये? :)

विनय ‘नज़र’ said...

सुमधुर आवाज़ से ज़रूर अवगत कराएं
---
मानव मस्तिष्क पढ़ना संभव

Udan Tashtari said...

दोनों बहनों की आवाज एक सी लगती है..इसलिये. :)