Saturday, August 22, 2009

आओ आज सुनो कहानी----"बकरी दो गाँव खा गई"--

बहुत दिनों से कुछ नया करने का सोच रही थी ---- आज एक पुरानी कहानी की किताब हाथ लगी---- और येखयाल आया कि एक कहानी पढ कर सबको सुनाउं--- तो लिजिये सुनिये हरिक्रष्ण देवसरे की लिखी ये कहानी----" बकरी दो गाँव खा गई"



Get this widget | Track details | eSnips Social DNA

2 comments:

Udan Tashtari said...

अच्छा जी, घर जाकर सुनते हैं. :)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

सुन्दर-
बहुत आभार.
श्री गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभ कामनाएं-
आपका शुभ हो, मंगल हो, कल्याण हो |
कृपया ये लिंक भी देख लें-
http://bhartimayank.blogspot.com/2009/08/blog-post_22.html