Saturday, December 28, 2013

नया साल ...

भटकता है मन
छिटकती हूं मैं
देखो-
फ़िर चला आया है 
एक और नया साल...

तुम्हारे बिना
अकेले चलना 
कठिन है बहुत
साल दर साल....
देखो-
फ़िर चला आया है 
एक और नया साल...

उम्र का एक और पड़ाव
नन्हा सा  एक जुड़ाव,
और बदल देगा फ़िर से 
विधाता मेरी चाल 
देखो-
फ़िर चला आया है 
एक और नया साल...

जितने करीब आना चाहूँ
रिश्तों को झुठलाना चाहूं
बन्धन उतना ही कसता जाता
खतम न होता मेरा काल 
देखो- 
फ़िर चला आया है 
एक और नया साल...

कुछ काम अभी और हैं बाकी
तुम बिन अकेले करना साथी
न जाने कब होगा खतम ये 
जीवन के नाटक का अन्तराल....
देखो-
फ़िर चला आया है 
एक और नया साल...

भटकता है मन
छिटकती हूं मैं
देखो-
फ़िर चला आया है 
एक और नया साल...


 


9 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (28-12-13) को "जिन पे असर नहीं होता" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1475 में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

नया साल जब भी आए, एक नया सन्देश लेकर आता है.. वैसे मेरा तो ये मानना है कि हर दिन नया दिन है और नये साल का शुभारम्भ.. फिर इतनी उदासी ठीक नहीं.

इस शुभारम्भ पर कुछ मीठा हो जाये!!! देखो प्रकृति ने भी धरती के ब्रेड पर सूरज का सुनहरा शहद स्प्रेड कर दिया है... अब कहीं से भी काटो, ये दिन मीठा ही लगने वाला है!!
शुभ दिन!!

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : रंग और हमारी मानसिकता

कालीपद प्रसाद said...

सुन्दर प्रस्तुति !
नई पोस्ट मेरे सपनो के रामराज्य (भाग तीन -अन्तिम भाग)
नई पोस्ट ईशु का जन्म !

Onkar said...

सुन्दर कविता

Reena Maurya said...

बहुत ही सुन्दर रचना ...

ब्लॉग - चिठ्ठा said...

आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (28 दिसंबर, 2013) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

Kaushal Lal said...

बहुत सुन्दर.......नववर्ष मंगलमय हो.

Prasanna Badan Chaturvedi said...

बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को और सभी ब्लॉगर-मित्रों को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है