Thursday, June 14, 2012

मेरी दुनियाँ है माँ तेरे आँचल में--- देवेन्द्र का गाया गीत..


माँ से बढ़कर कोई नहीं....कोई प्रस्तावना नहीं कोई,भूमिका नहीं...

                                         शशी मासी,नीरू मासी और माँ

हम भाई-बहन भी माँ को कहते ही नहीं कभी ...पर हम भी चाहते  हैं माँ से कहना ---

-----------  माँ SSSSS माँSSSSS मेरी दुनिया है माँ तेरे आँचल में......

-----------  मम्मा ...मम्मा......तू गुस्सा करती हैSSSS बड़ा अच्छा लगता है ..... 
                                                     
आज हम सबकी भावनाओं को  देवेन्द्र ने स्वर दिया है ----
आप भी सुनिये ---

                

                                         हम और माँ---





4 comments:

M VERMA said...

बहुत सुन्दर स्वर ..
और फिर माँ पर गीत

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर ....।

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह..

Ramakant Singh said...

सचिन दा के गाये गीत को गाना ही बहुत बड़ी बात है .आप खुद अच्छा गाती हैं बाबू साहब ने गीत को नया रूप दिया बधाई .......