Thursday, July 26, 2012

वाह! रे "मैं"

मैं और तुम
खुद ही की सोचते
कई हैं ऐसे...


करते काम
सिर्फ़ स्व के लिए ही
क्या बदलेगा!!


कौन समझे?
और समझाए भी
करो खुद ही...


खुद में खोजें
खुदा को भी पा लेंगे
ॐ शान्ति शान्ति!!!


एक ही सच
सत्यमेव जयते
सीख लें बस!!


सच के आगे
सब कुछ बेमानी
बाकी नादानी...

14 comments:

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

सत्य वचन!

Arvind Mishra said...

सत्यमेव जयते नानृतम .....

yashoda agrawal said...

शनिवार 28/07/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

Ramakant Singh said...

जिसने खुद को पा लिया समझो खुदा को पा लिया
और जिसने खुदा को पा लिया , खुद को पा लिया ?

संजय @ मो सम कौन ? said...

सच के आगे
सब कुछ बेमानी

और सच के पीछे? बेईमानी? :)

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बहुत सुंदर

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

सच के आगे सब कुछ बेमानी...
बहुत सुन्दर ...
सादर.

प्रवीण पाण्डेय said...

सच सच रहेगा,
वही बच रहेगा।

Sanju said...

Very nice post.....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.

Anju (Anu) Chaudhary said...

सच में ...''वाह रे मन ...अब तो कुछ बाते तू भी मान ले ''.... :))))

Onkar said...

सही कहा

India Darpan said...

बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....
रक्षाबंधन पर्व की हार्दिक अग्रिम शुभकामनाएँ!!


इंडिया दर्पण
पर भी पधारेँ।

Mukesh Kumar Sinha said...

wah re sach...:)
bahut behtareen di...

सतीश सक्सेना said...

बिलकुल सच कहा आपने ..