Wednesday, May 14, 2014

पांच पीढ़ी ...

पहले चित्र में - दया मासी यानि मेरी मम्मी की मौसी,मेरी नानी जी की  छोटी बहन यानि हमारी मौसी नानी 94 साल की मम्मी के साथ
और दूसरे में -मैं,पल्लवी और "मायरा" माँ के साथ

10 comments:

Rakesh Kumar said...

शानदार जोडियाँ

सब को एक साथ देखकर अच्छा लगा.

आभार

शोभना चौरे said...

Are vah

डॉ. मोनिका शर्मा said...

:) Badhai...

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

मातृशक्ति को सादर नमन

राजीव कुमार झा said...

बधाईयाँ !!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

एक विशाल वटवृक्ष और उससे लटकती टहनियाँ!! बडों को प्रणाम और छोटों को आशीष!!

ब्लॉग बुलेटिन said...

आज की ब्लॉग बुलेटिन लोकतंत्र, सुखदेव, गांधी और हम... मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ...

सादर आभार !

Onkar said...

सुंदर

गिरिजा कुलश्रेष्ठ said...

पाँच पीढियों के एक साथ होने की सुखमय अनुभूति । सौभाग्य है इनका एक साथ होना । मौसी नानी और माँ को प्रणाम । खूबसूरत बेटी और उसकी और भी खूबसूरत बेटी को बहुत सारा प्यार । आशीष ।

संजय भास्‍कर said...

सादर नमन