Monday, April 11, 2011

नवरात्रि पर्व ३ - ममांग दाई की कविता

नवरात्रि पर्व के तॄतीय  दिवस पर "शरद कोकास" नामक ब्लॉग  पर प्रकाशित कविता----
अनुवादक- सिद्धेश्वर सिंह जी 

4 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बस अभी अभी कविता पढ़कर ही आ रहे हैं।

संजय कुमार चौरसिया said...

" jay maata di "

Kajal Kumar said...

...मेरा साउंड कार्ड काम नहीं कर रहा :(

Chaitanyaa Sharma said...

Bahut Bahut Sunder....