Tuesday, October 11, 2016

हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती ( स्टेटस ) निकाल के ..जुकरबर्गवा ऐसे स्टेटसो को रखा करो संभाल के


ये टैब पर नौसीखिया हूँ वरना ब्लॉग पर लिखती.....
वाणी को टिपण्णी करने में उलझन लग रही है ,निवेदिता टैगिंग से परेशान है,
पीडी,और शेखर ब्लॉक करके लॉक लगा रहे हैं ,शिखा ने नया मोबाईल लिया फोटोग्राफी अच्छी है उसकी भी ,अमित जी रसोई में ज्ञान प्राप्त कर रहे हैं, काजल जी को बारिश ने आज तंग किया,विवेक और महफूज दोनों मोटे-पतले होने में लगे हैं,वीर जी और ललित जी ने वाट लगा रखी है,
सनातन जी वेदाध्ययन करवा रहे हैं,अनु को थोड़ी फुरसत मिली है तो समीर जी और भैया भयंकर रूप से व्यस्त हैं,मुकेश ने गिटार उठा ली है, और अजय ,पदम् ,दिलीप और शिवम् अपने-अपने मोर्चों पर तैनात है,दूर गौतम की गज़ल महकती है कभी तो कभी आशीष की गीता सुगंध बिखेरती है.......और और
गिरीश,सागर ,नितीश,दीपक सब........
और भी बहुत कुछ ....... क्यों कि ........बस ! बता नहीं सकती क्यों ....
LikeShow more reactions
Comment
Comments
Amit Kumar Srivastava सारी गोटियों से कैरम सजा दिया आपने ।
Amit Kumar Srivastava मतलब नया नया टैब आपके पास और नया नया मोबाईलShikha के पास ...जलवे हैं आप लोगों के ।
Vivek Rastogi और नया लैपटॉप हमारे पास आने वाला है।
Vandana Gupta andaz -e- bayan achcha hai
अर्चना चावजी ये सब लड़की लोग सिर्फ हँस के क्यों चल दी ,मैंने तो कुछ भी ऐसा नहीं लिखा ....
वंदना अवस्थी दुबे ab kya karen, jin "ladakiyon" ka naam nahin liya aapane, ve to keval muskuraa hee paayengi na?? so hans rahee hain 
Bs Pabla हम तो किलोवाट वाले हैं ! ये वाट से क्या होगा ? 
अर्चना चावजी वंदना आपके बारे में लिखने से पहले सोच रही थी ... दो दो आई डी कैसे मैनेज करती होंगी
अर्चना चावजी अनूप जी च्यवनप्राश की फैक्ट्री कहाँ डालेंगे? फुर्सत में ...
सलिल वर्मा Mujhe to bas yahi achchha laga ki mera naam likhe bina hi ab log samajhne lage hain..
अर्चना चावजी और मेरा नाम पूरा लिखना पड़ता है ,"जी" के साथ ......
सलिल वर्मा Ye to Gujaratiyon ki zabardasti hai.. Kalyanji Ananaji.. !!
ज्योतिषी सिद्धार्थ मुखपुस्‍तक चर्चा... (चिठ्ठा चर्चा की तर्ज पर)
अर्चना चावजी साप्ताहिक राशिफल में आपका नम्बर आज नहीं लिखा हुआ था .......
ज्योतिषी सिद्धार्थ इस बार हड़बड़ी में ही डाला। पहले भूल ही गया था...
अर्चना चावजी हा हा हा ये तो और भी गज़ब रहा...... मैंने तो राशिफल बिना देखे ही ये कहा और वो भी इसलिए की मुखपुस्तक चर्चा में आज आपको मिस कर दिया था मैंने ......धन्यवाद....
अर्चना चावजी सूज्ञ जी,अनुराग जी, बंगलौर वाले रेल वाले छोटे भाई ...कितने नियमित हैं सीखना चाहिए उनसे सबको.......
और कुटिल कामी पता नहीं किसकी कुटिलता में फंसे है .......
Kajal Kumar वाह . लोग तो ब्‍लॉग चर्चा करते आए हैं. यह तो फ़ेसबुक पर ही फ़ेसबुक चर्चा हो गई.
Sharad Kokas यह तो सभी का स्मरण कर लिया आपने ..
अर्चना चावजी अभी सब कहाँ हुए .?...पर आप आए सबसे मिलने .....बहुत अच्छा लगा, वंदना याद कर रही थी आपको.......
Sonal Rastogi meri ranking yahan bhi nahi hai sun rahe hai Ashish Rai ji
वाणी गीत ये कब लिखा , हमने तो आज पढ़ा !
अर्चना चावजी अरे वाह ....? थैंक्स Anurag जी
Ashish Rai tum kisi bhi list se upar ho Sonal Rastogi 
Anulata Raj Nair हमें फुरसतिया बताया आपने??? कित्ता काम रहता है हमें आप क्या जानो 
Nivedita Srivastava हमने इस स्टेटस को दुबारा लाइक किया है , दो लाइक नहीं दिख रहा इसमें मेरी कोई गलती नहीं है  और हाँ एक गीत (वाणी गीत जी नहीं सिर्फ गीत ) भी याद आ रहा है ... हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती ( स्टेटस ) निकाल के .... 
अर्चना चावजी जुकरबर्गवा ऐसे स्टेटसो को रखा करो संभाल के ......... 
Shikha Varshney ओह तो ये था .. वो सोना जो खुदाई में निकाला आपने .
वाणी गीत काहे , हमको याद करने में कौनो परेशानी है  Nivedita Srivastava
Nivedita Srivastava याद करने में परेशानी तो कौनो नहीं है बस आपको हिचकी न आने लगे इसीलिये .. Vani Geet
वाणी गीत वादा था उसका करेंगे याद आयेंगी हिचकियाँ
ना किया उसने याद ना आई हिचकियाँ … wow! ये तो शे'र हो गया !
अर्चना चावजी शेर ...शेरनी का ... 
गौतम राजरिशी  सब स्माइल कर रहे थे तो हम भी कर दिये !
अर्चना चावजी गौतम जी के शेर की अगली लाईन हो सकती है -
सब..............दिए !
वैसे उनकी बात में तो कोई दम न था ........
अर्चना चावजी ओ माय गॉड ..... आज इसे पढ़कर हँस-हँसकर बुरा हाल हो गया मेरा .... 
Sangita Asthana & me...
4 hrsLike
Nivedita Srivastava यादगार स्टेटस के अवार्ड से इसको नवाज़ा जाये .... 😊
3 hrsUnlike1

4 comments:

देवेन्द्र पाण्डेय said...

आनंद दायक तो है.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

कमाल के आइडियाज़ का कारखाना है तुम्हारा दिमाग!

अजय कुमार झा said...

हा हा हा हा बहुत ही धाँसू और सदाबहार पोस्ट है दीदी | इस प्रयोग पर और भी आगे हाथ आजमाया जाना चाहिए दीदी

Dilbag Virk said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 13-10-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2494{ चुप्पियाँ ही बेहतर } में दिया जाएगा
धन्यवाद