Monday, June 21, 2010

.सुनिए..................................................................

आज बस ये .....................

4 comments:

Udan Tashtari said...

तुम न जाने..बहुत सुन्दर!

राज भाटिय़ा said...

मस्त जी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपने आज बहुत ही मार्मिक गीत
अपने मधुर स्वर में गाया है!

दीपक 'मशाल' said...

मज़ा आ गया सुनकर...