Monday, June 28, 2010

अब क्या करूँ ?.............................................बाँट दूँ ?????

मैं ईश्वर को अपनी परेशानी दे देती हूँ.........कह देती हूँ------उसने ही भेजा है ..........तो उसे ही बताना है कि ----आज क्या करना है ?.........क्योंकि उसे ही पता है कि उसने क्यों भेजा है.............जो भी अच्छा काम करवाना हो करवा ले .................
आज मुझे क्या करना है मैं ये नही सोचती .............क्योंकि मुझे पता थोडे ही रहता है कि मैं किस वक्त तक .रहूँगी !!!.........................जब भी समस्या आती है -----पूछ लेती हूँ अब क्या करूँ ? आगे बता ................बस ..........

6 comments:

Udan Tashtari said...

सही है.

आचार्य जी said...

बहुत सुन्दर।

Sunil Kumar said...

बेहतरीन!! बहुत बढ़िया

राजकुमार सोनी said...

हमें पता भी नहीं होता और ईश्वर हमारे कठिन काम आसान करते चलता है। एक बेहतर रचना के लिए बधाई।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुन्दर।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

वक्त कि धारा में बहते चलो...अच्छा सुझाव