Sunday, September 26, 2010

प्रिय बेटी,समर्पित ये दिन तुझको



१,२-मै और बेटी,३-माँ के आस-पास दोनो बेटीयाँ (भाभीयाँ)४-निशी-पापा के साथ५-मेरे साथ प्रान्जली(देवेन्द्र) व सुहानी(राजेन्द्र)६-जीतेन्द्र के साथ वैदेही(वैदेही से मिलिये यहाँ )
और बेटीयों को समर्पित ये कविता--(मोबाईल पर मेसेज मिला था)

ओस की बूँद सी होती है बेटियाँ
स्पर्श खुरदरा हो तो रोती है बेटियाँ
रोशन करेगा बेटा तो बस एक ही कुल को
दो-दो कुलों की लाज होती है बेटियाँ
कोई नहीं एक-दूसरे से कम
हीरा है अगर बेटा
तो सच्चा मोती होती है बेटियाँ
काँटों की राह पर ये खुद ही चलती रहेंगी
औरों के लिए फ़ूल बोती है बेटियाँ
विधी का विधान है
यही दुनियाँ की रस्म है
मुट्ठी भर नीर सी होती है बेटियाँ...

24 comments:

M VERMA said...

बहुत अच्छा लगा चित्रों को देखकर
बेटियाँ तो बेटियाँ हैं ....

संजय भास्कर said...

ओस की बूँद सी होती है बेटियाँ
स्पर्श खुरदरा हो तो रोती है बेटियाँ

......बेटियाँ तो बेटियाँ हैं |

संजय भास्कर said...

डाटर्स डे दिवस की बहुत बधाई....

संजय भास्कर said...

खूबसूरत अभिव्यक्ति, आज की बेटियां जीवन के हर सोपान पर श्रेष्ठता का परचम लहरा रही है . इस अनुपम पोस्ट के लिए बधाई.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर चित्र लगाये हैं आपने!
--
बिटियों की महिमा अनन्त है।
इन से ही घर में बसन्त है!!

Udan Tashtari said...

बेटियों को इस विशिष्ट दिवस पर सदा की तरह अनेक आशीष, बधाई एवं शुभकामनाएं.

निशि भी दिख ही गई यहाँ पर. :)

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (27/9/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा।
http://charchamanch.blogspot.com

प्रवीण पाण्डेय said...

बड़े सुन्दर हैं सारे चित्र। बहुत अच्छा लगा आपके परिवार से मिलकर।

सतीश सक्सेना said...

माँ बेटी का दूसरा फोटो अच्छा लगा ...लगता है दो शरीर और एक जान हैं दोनों ! आपको देखने की इच्छा थी सो धन्यवाद ! परिवार को मेरी हार्दिक शुभकामनायें !

Dr. shyam gupta said...

सुन्दर अभिव्यक्ति..

दीपक 'मशाल' said...

बच्चाराम को मेरी तरफ से भी बेटियों का दिन मुबारक हो.. हर खुशी मिले जो चाहो..

विनोद कुमार पांडेय said...

बहुत भावपूर्ण रचना..बधाई

उन्मुक्त said...

आज क्या कुछ खास है या बिटिया रानी का जन्मदिन है।

Kailash C Sharma said...

बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति......

रंजना said...

वाह....
हृदयस्पर्शी बहुत ही सुन्दर...

संजय कुमार चौरसिया said...

बहुत अच्छा लगा चित्रों को देखकर
बहुत भावपूर्ण रचना..बधाई

डॉ. मोनिका शर्मा said...

बेटियाँ तो बेटियाँ हैं....खूबसूरत अभिव्यक्ति

दुधवा लाइव said...

सुन्दर व भाव पूर्ण काव्य, हम स्त्री को महान बताते नही थकते पर इस बात को अपने चरित्र में क्यों नही उतार पाते है? जो शास्वत सत्य सुन्दर, निर्मल व दैवीय है यानी स्त्री उसे हम क्यों किताबी बनाये हुए हैं....

रंजना [रंजू भाटिया] said...

ओस की बूँद सी होती है बेटियाँ सही कहा बहुत सुन्दर लगी आपकी यह रचना

राजीव तनेजा said...

सुन्दर चित्र...
बढ़िया रचना

फ़िरदौस ख़ान said...

भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

ऋता शेखर मधु said...

चित्र बहुत सुंदर...साथ में प्यारी सी कविता|
बेटियों को शुभाशीष|

अनुपमा पाठक said...

सुन्दर चित्र!
मुस्कुराहटें यूँ ही बनी रहे!

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : अद्भुत कला है : बातिक