Monday, April 24, 2017

सीखने की कोई उम्र नहीं होती

बचपन की बात है,काका के यहाँ जाती थी तो वे क्लब के स्विमिंग पूल ले जाते तब बहुत डर लगता बाहर से देख देख मन में एक इच्छा ने घर कर लिया कि कभी मौका मिला तो सीखूँगी ...
समय बीता .... वार्डन रहते छुट्टी के दिन होस्टल के बच्चे स्विमिंग करते और मैं बाहर से सिर्फ ड्यूटी देती तैरना न आते हुए भी 
स्कूल में स्पोर्ट्स टीचर बनी .... जब स्विमिंग टीचर छुट्टी करती तो मेरा अरेजमेंट लग जाता ... और क्लास लेना पड़ती ,डर लगता मगर बाहर से नियंत्रण रखती और बच्चों की क्लास मिस न होती,बच्चे खुश और मै डरी हुई ....

एक बार गर्मी की छुट्टियों में स्विमिंग केम्प लगा स्कूल में ,जो कोच थी उनके पिताजी का अचानक देहांत हो गया,,जिम्मेदारी मुझ पर आ गई ,तब तक थोड़ा हाथ पैर चलाना सीख लिया था मैंने..... करीब एक हफ्ते पानी में उतर कर सिर्फ बच्चों को पकड़ पकड़ सिखाया पूल में पानी थोड़ा कम रखवाया और दो हेल्पर पूल साइड खड़े रहते ,बहुत बड़ा रिस्क लिया पर सिखाया ,खुद तब भी ठीक से नहीं आती थी। 😢
कभी सोचा न था अब स्विमिंग सीखूँगी.,...पिछले वर्ष वत्सल के यहां बंगलौर आई तो ये मौका हाथ लगा। 
स्विमिंग सीखना अच्छा लगा . और सीखने की तो कोई उम्र नहीं होती .. पानी पर सोकर रेस्ट किया था तभी पहली बार....




एक बात तो तय है की सीखने की कोई उम्र नहीं होती ,और सीखी हुई कोई चीज या बात कभी बेकार नहीं जाती। ..
अबकी कार चलाना सीखना है। .. :-)

.....




😁

9 comments:

yashoda Agrawal said...

आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 25 अप्रैल 2017 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

Harshita Vinay said...

sach me sikhne ki koi umr nahi hoti

Arun Roy said...

शुभकामनाएं. वाकई सीखने की कोई उम्र नहीं होती है।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सही कहा आपने.
रामराम

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-04-2017) को

"जाने कहाँ गये वो दिन" (चर्चा अंक-2623)
पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

HARSHVARDHAN said...

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन सुकमा नक्सली हमला और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

प्रतिभा सक्सेना said...

और क्या! सीखना तो जीवन भर चलता है और सचमुच मन से चाहो तो अनुकूल परिस्थितियाँ भी बन जाती हैं.

Anita said...

वाकई सीखने का जज्बा हो तो उम्र आड़े नहीं आती

रश्मि शर्मा said...

बिल्कुल सही